महिला मुक्केबाजी : मैरी कॉम रिकार्ड छठी बार बनीं विश्व चैम्पियन, पीएम ने दी बधाई

नई दिल्ली: ओलम्पिक कांस्य पदक विजेता भारत की दिग्गज मुक्केबाज एम.सी. मैरी कॉम ने शनिवार को अपना छठा विश्व चैम्पियनशिप खिताब जीत लिया। 'मेग्नीफिसेंट मैरी' नाम से मशहूर 35 साल की मैरी कॉम ने यहां इंदिरा गांधी स्टेडियम के के.डी. जाधव हॉल में जारी 10वीं आईबा महिला विश्व चैम्पियनशिप के 48 किलोग्राम भारवर्ग के फाइनल में यूक्रेन की हना ओखोटा को 5-0 से मात देकर स्वर्ण पदक पर कब्जा जमाया। 

यह मैरी कॉम का विश्व चैम्पियनशिप में छठा स्वर्ण और कुल सातवां पदक है। मैरी कॉम विश्व चैम्पियनशिप में छह स्वर्ण पदक जीतने वाली पहली महिला मुक्केबाज बन गई हैं। उनसे पहले आयरलैंड की कैटी टेलर ने ने 60 किलोग्राम भारवर्ग में 2006 से 2016 के बीच पांच स्वर्ण पदक अपने नाम किए थे। उनके नाम एक कांस्य पदक भी है। 

यही नहीं, मैरी विश्व चैम्पियनशिप (महिला एवं पुरुष) में सबसे अधिक पदक भी जीतने वाली खिलाड़ी बन गए हैं। मैरी कॉम छह स्वर्ण और एक रजत जीत कर क्यूबा के फेलिक्स सेवोन (91 किलोग्राम भारवर्ग) की बराबरी की। फेलिक्स ने 1986 से 1999 के बीच छह स्वर्ण और एक रजत पदक जीता था। 

मैरी कॉम इस जीत के बाद भावुक हो गईं। भावुक मैरी ने कहा, "मैं इस जीत के लिए अपने सभी प्रशंसकों का शुक्रिया अदा करती हूं, जो मुझे यहां समर्थन करने के लिए आए। मैं आप सभी की तहेदिल से शुक्रगुजार हूं। मेरे लिए यह महान पल है।"

पहले राउंड में दोनों खिलाड़ी सावधानी से एक दूसरे खेल को परख रहीं थीं और इसलिए ज्यादा आक्रमण नहीं कर रहीं थीं। दोनों ने अपने राइट पंच का अच्छा इस्तेमाल किया। मैरी ने कुछ पंच मारे, जिनमें से कुछ अच्छे सही निशाने पर लगे। इस बीच, हालांकि हना ने भी अपने राइट जैब का अच्छा उपयोग किया लेकिन मैरी कॉम अपनी फुर्ती से उनके अधिकतर पंचों को नाकाम करने में सफल रहीं। 

दूसरे राउंड में दोनों ने आक्रामकता दिखाई और राइट जैब के साथ फिस्ट के संयोजन से हावी होने की कोशिश की। रणनीति दोनों खिलाड़ियों को एक जैसी थी। शुरुआत में हना ने अच्छे पंच मारे जो सटीक रहे। हालांकि दूसरे राउंड के अंत में मैरी कॉम ने दूरी बनाते हुए अपने लिए मौके बनाए और फिर समय पर पंच मार अंक बटोरे। 

तीसरे राउंड की शुरुआती एक मिनट में मैरी ने राइट और लेफ्ट जैब के संयोजन से तीन-चार अच्छे पंच स्कोरिंग एरिया में मार जजों को प्रभावित किया लेकिन यहां से हना बेहद आक्रामक हो गईं और मैरी को उन्हें संभालना थोड़ा मुश्किल हो गया। 

अनुभवी मैरी ने धैर्य बनाए रखा और जब हना लापरवाह दिखीं तब पंच मार अंक बटोरे। 

महिला विश्व मुक्केबाजी में सोनिया चहल को रजत पदक

भारतीय खिलाड़ी सोनिया चहल को यहां जारी विश्व महिला मुक्केबाजी चैम्पियनशिप में रजत पदक से संतोष करना पड़ा। शनिवार को जर्मनी की गेब्रिएल वाहनेर ने 57 किलोग्राम भारवर्ग के फाइनल में सोनिया को मात दी। इंदिरा गांधी स्टेडियम के के.डी. जाधव हॉल में खेले गए फाइनल में सोनिया को वाहनेर ने 4-1 से मात देकर स्वर्ण पदक जीतने से रोक दिया। 

पांच जजों ने 29-28, 29-28, 28-29, 29-28, 29-28 से फैसला जर्मनी की खिलाड़ी के पक्ष में दिया। 

प्रधानमंत्री ने विश्व चैम्पियन मैरी कॉम को बधाई दी

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने विश्व महिला मुक्केबाजी चैम्पियनशिप में रिकॉर्ड छठा खिताब जीतने पर दिग्गज मुक्केबाज एमसी मैरी कॉम को शनिवार को बधाई दी। 35 साल की मैरी कॉम ने यहां इंदिरा गांधी स्टेडियम के के.डी. जाधव हॉल में जारी 10वीं आईबा महिला विश्व चैम्पियनशिप के 48 किलोग्राम भारवर्ग के फाइनल में यूक्रेन की हना ओखोटा को 5-0 से मात देकर स्वर्ण पदक पर कब्जा जमाया। 

मोदी ने ट्विटर पर मैरी कॉम को बधाई देते हुए लिखा, "महिलाओं की विश्व मुक्केबाजी चैम्पियनशिप में स्वर्ण जीतने पर मैरी कॉम को बधाई। मैरी ने कड़ी मेहनत के साथ इस खेल में अपने करियर को आगे बढ़ाया और विश्व स्तर पर उत्कृष्टता हासिल की है। उनकी यह सफलता सभ के लिए बेहद प्रेरणादायक है। उनकी जीत वास्तव में बेहद खास है।" 

मोदी के अलावा असम के मुख्यमंत्री और पूर्व केंद्रीय खेल मंत्री सर्बानंद सोनोवाल ने मैरी कॉम को बधाई देते हुए कहा, "रिकॉर्ड छठी बार विश्व चैम्पियनशिप का खिताब जीतने पर दिग्गज मुक्केबाज मैरी कॉम को ढेर सारी बधाई।" 

इनके अलावा बैडमिंटन स्टार सायना नेहवाल और पेशेवर मुक्केबाज विजेन्दर सिंह ने भी मैरी कॉम को बधाई दी है। 

यह मैरी कॉम का विश्व चैम्पियनशिप में छठा स्वर्ण और कुल सातवां पदक है। मैरी कॉम विश्व चैम्पियनशिप में छह स्वर्ण पदक जीतने वाली पहली महिला मुक्केबाज बन गई हैं।

 

Sections

Add new comment

This question is for testing whether or not you are a human visitor and to prevent automated spam submissions.

Image CAPTCHA
Enter the characters shown in the image.